تبلیغات

Advertisement

सेना कैंप के पास रहने वाले लोगों का खुलासा – अधिकारी हमें मार्केट से आधे रेट में राशन-पेट्रोल बेचते हैं

श्रीनगर में सुरक्षा बलों के कैंप के आस-पास रहने वाले लोगों ने खुलासा किया है कि सेना के कुछ अधिकारियों से उन्हें मार्केट से आधे रेट में सामान मिल जाता है। लोगों ने बताया कि अधिकारियों से उन लोगों को पेट्रोल, डीजल के साथ-साथ खाने के कुछ सामान भी मार्केट से आधे रेट में मिल जाते हैं। खाने के सामान में चावल, मसाले जैसी चीजें शामिल हैं। इसके साथ-साथ सब्जियां तक कैंप के पास रह रहे लोगों को सस्ते में बेच दी जाती हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, ये बातें श्रीनगर के हमहमा में बने बीएसएफ हेडक्वॉटर के आसपास रहने वाले लोगों से बातचीत के बाद सामने आई हैं। वह हेडक्वॉटर श्रीनगर एयरपोर्ट के पास ही है। इसके अलावा कैंप के बाहर फर्नीचर की दुकान खोलकर बैठे एक शख्स ने तो यह भी कहा कि सेना के जिन लोगों के जिम्मे फर्नीचर खरीदने की जिम्मेदारी होती है वह कमीशन लेकर उन लोगों को ऑर्डर देते हैं इसके अलावा पैसों के लिए सामान की क्लॉलिटी से भी समझौता करने को तैयार हो जाते हैं। उस शख्स ने यह भी दावा किया कि सेना में ई-टेंडर का कोई सिस्टम ही नहीं है।

इन बातों के सामने आने के बाद बीएसएफ की 29वीं बटालियन के जवान तेज बहादुर यादव की बात सच लगनी है। तेज बहादुर ने दावा किया था कि सेना के बड़े अधिकारी उनको मिलने वाला राशन बेच देते हैं। तेज बहादुर ने अपनी बात के पक्के सबूत देने के लिए कुछ वीडियो भी पोस्ट किए थे। उसमें उन्होंने उनको मिलने वाला खाना दिखाया था। उन्होंने सारी वीडियोज को फेसबुक पर पोस्ट किया था। वीडियो के वायरल होने के बाद सरकार ने जांच के आदेश दिए थे।

हालांकि, सेना के अधिकारियों ने आरोपों को गलत बताया था। उन्होंने तेज बहादुर पर भी कई तरह के आरोप लगाए थे। इसके बाद कुछ निजी चैनलों से बात करते हुए तेज बहादुर ने दावा किया था कि कुछ अधिकारियों ने उनपर वीडियो हटाने का दवाब बनाया था। तेज बहादुर ने अपने तबादले होने की बात भी कही थी। तेज बहादुर ने कहा था कि अब उन्हें प्लंबर का काम सौंप दिए गया है।

Also Read

इस वक्त की बाकी ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें 

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on January 11, 2017 7:30 am

گزارش تخلف

تمامی مطالب از سایت های مجاز فارسی و ایرانی تهیه و جمع آوری شده است، در صورت وجود هرگونه مشکل از طریق صفحه گزارش تخلف اطلاع دهید.

تبلیغات

جدیدترین اخبار

داغ ترین اخبار