تبلیغات

Advertisement

कौन बनेगा बिग ‘बॉस’

नोएडा के आगहापुर गांव की मिट्टी में खेलकर बड़े हुए बिग बॉस सीजन-10 के बिंदास छोरे मनवीर गुर्जर को कार्यक्रम के साथियों के अलावा दर्शकों का भी भरपूर साथ मिल रहा है। फिल्म या कला से कोई सरोकार नहीं रखने वाले मनवीर की खास शैली को सब पसंद कर रहे हैं। यही वजह है कि शो के दूसरे कलाकारों के मुकाबले मनवीर सबकी पहली पसंद बने हुए हैं।  बिग बॉस में भाग लेने से पहले डेयरी का काम करने वाले मनवीर से परिजनों को ऊंची उम्मीद है। कार्यक्रम के बाद डेयरी का काम छोड़कर फिल्मी दुनिया में भविष्य बनाने की कामना उनके परिजन कर रहे हैं। 23 दिसंबर को मनवीर के कपड़े लेकर उनके पिता महाराज सिंह और बड़े भाई अनूप मुंबई गए थे। दो दिन तक वहां रुकने के बाद आशीर्वाद देकर लौट आए थे। मुंबई से लौटने पर महाराज सिंह ने मनवीर के कमजोर होने की बात जब उनकी मां बाला देवी को बताई, तो वे बहुत भावुक हो गई थीं। मनवीर को चावल कम पसंद है। जबकि कार्यक्रम में उन्हें चावल और ओट्स खाने पड़ रहे हैं।

गांव में किराने की दुकान करने वाले अनूप ने बताया कि ‘बिग बॉस’ जीतने के बाद भविष्य में मनवीर क्या करेगा, इसका फैसला उसी को करना है। हालांकि घर वाले उसका भविष्य फिल्मी दुनिया में देखना चाह रहे हैं। बिग बॉस सीजन- 8 और 9 जीतने वाले गौतम गुलाटी व प्रिंस अब टीवी धारावाहिक और रियलिटी शो में भाग ले रहे हैं। उल्लेखनीय है कि दूसरे आॅडिशन में ज्यादातर प्रतिभागियों ने मनवीर को शो में प्रवेश देने के लिए मना किया था। दोस्तों ने बिग बॉस में फिल्म से सरोकार नहीं रखने वालों को मौका दिए जाने की जानकारी मिलने पर मनवीर को प्रेरित किया था। जिन्होंने मनवीर का 15 मिनट का विडियो तैयार किया था। एक दोस्त सचिन ने संपादित कर उसे तीन मिनट का बनाया था। मनवीर की भतीजी कनिका की ईमेल से उस विडियो को बिग बॉस के लिए भेजा था। जून में दूसरे आॅडिशन के लिए फोन आया था।

दिल्ली में हुए दूसरे आॅडिशन में 11 में से 9 प्रतिभागियों ने मनवीर को बाहर निकाले जाने को कहा था। इसके बावजूद मनवीर को बिग बॉस ने चुन लिया था। 16 अक्तूबर से शुरू हुए शो के शुरुआती दिनों में गांव में बड़ी स्क्रीन लगाकर लोगों ने मनवीर का तालियां बजाकर जोश बढ़ाया था। रात 10.30 बजे ही मनवीर के परिजन बाकी पेज 8 पर उङ्मल्ल३्र४ी ३ङ्म स्रँी 8
समेत पूरा गांव बड़ी स्क्रीन के सामने बैठकर बिग बॉस देखते थे। अलबत्ता ठंड बढ़ने के कारण बड़ी स्क्रीन के बजाए सभी अपने-अपने घरों में बैठकर बिग बॉस शो जरूर देख रहे हैं। बताया गया है कि बिग बॉस में मनवीर के आने के बाद करीब 200 सेट टॉप बाक्स भी लोगों ने लगाए हैं, ताकि मनवीर को बिग बॉस जीतकर लौटते देखें। शो में भाग लेने से पहले मनवीर की अपने पिता से काफी पहले से बातचीत बंद थी। यही वजह है कि पिता महाराज सिंह को जब शो में मुंबई बुलाया गया, तब उनकी आंखों से आंसू निकल आए थे।

सेक्टर-41 स्थित आगहापुर गांव में मनवीर के घर में रह रहे उनके रिश्तेदार नितिन का मानना है कि नितिभा कौल के साथ मनवीर का झगड़ा एक सामान्य बात है। जो अमूमन दोस्तों के बीच कभी भी हो सकता है। अलबत्ता, दूसरों को गंदा बोलने और ज्यादातर ना बोलने योग्य बातें करने की वजह से स्वामी ओम से नाराजगी जताई है। दिल्ली विश्वविद्यालय से बीकॉम कर रहे नितिन ने ओम स्वामी जैसे लोगों के बिग बॉस में शामिल होने पर आश्चर्य जताया है। गांव में ही रहने वाले मनवीर के एक अन्य रिश्तेदार मनीष का मानना है कि बगैर फिल्मी आधार वाला ही कोई प्रतिभागी शो का विजेता बनेगा। इसमें मनवीर, मनु पंजाबी और नितिभा कौल, तीनों को प्रबल दावेदार माना है। हालांकि बानी और लोपामुद्रा के बर्ताव को भी अच्छा माना है।

बिग बॉस 10, 10 जनवरी 2016: मनु, मनवीर ने चालाकी से किया टिकट टू फिनाले टास्क में क्वालिफाई

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on January 12, 2017 2:14 am

گزارش تخلف

تمامی مطالب از سایت های مجاز فارسی و ایرانی تهیه و جمع آوری شده است، در صورت وجود هرگونه مشکل از طریق صفحه گزارش تخلف اطلاع دهید.

تبلیغات

جدیدترین اخبار

داغ ترین اخبار